BASODA (बासोड़ा)… A Ritual after Holi

Hello friends,

I am too late this time. Please read this blog and leave your comments about this.

Holi  is celebrated on the falguni purnima as per the Hindi calendar. This is a full moon night. Holika dahn i.e burning of devil is performed in the night and holi is played with colors on the next day. Due to the month of fagun, the folks sung on this occasion are called the fagwa (फगवा).

Once the festival of holi is over, people residing in metros or other big cities go to their offices for normal work, but the ancient parts i.e. villages have some rituals to perform after holi. In the western part of U.P, the next day is ‘Bhai Duj’ (भाई दूज). It’s the same as is celebratd after deepawali. On this bhai duj, the sisters apply the ‘Teeka’ (टीका) on brother’s forehead. The difference is that the ‘Teeka’ is of ‘Gulaal’ .

The  8th day from Holi is ‘Sheetla Ashtami’ (शीतला अष्टमी). This day the Basoda (बासोड़ा) is performed. The entire Brij region (consisting Mathura and the nearby places) celebrates Basoda. The word basoda means basi khana ( बासी खाना) i.e. the stale food.

Food to be eaten on Sheetla Ashtmi.jpg

On this day the ladies perform pooja of Maa Sheetla. The stale food is taken after that.

Some people don’t have anything the whole day except the stale food as performing this ritual strictly.

As per some mythological stories, Sheetala Devi protects from many diseases like measles, chicken pox etc.

Sheetla Devi holds a broom (झाड़ू) and a Pot (कलश).

Mata-Sheetla-Devi.jpg

A different scientific logic stipulates the reason behind celebrating the eating of stale food as a ritual, is that in during winters, the food does not get spoiled and can be eaten after 8-10 hours. As soon as holi is over, the weather gets warmer. Basoda is performed as a token that ‘ it is the last day of eating the stale food’.

Once Basoda is performed, the stale food is said to be not allowed and it’s the end of the winters.

Thank You…..

Will be back soon with a new blog.

Please leave your comments.

Regards,

Arjun Kishor

Advertisements

Ramoji Film City, Hyderabad……… my view

Ramoji Film City ………. the largest Film City

Hi friends,

I am back with another destination,

We all love to watch movies…… most of us might  never have visited a film city. A film city is a place where the film makers can find large sets of Royal Palaces, Famous forts, Rivers, Highways, Airports, Railway Stations, large meadows, beautiful waterfalls and so many other things.

dscn0840

Ramoji film city is the largest film city of the world. It is situated 40 kms to the south of Hyderabad city, Telangana. This is spread over 1666 acres area. It is a hilly place.

Ramoji Rao, founder of the film city

Ramoji Rao, the famous telugu film maker is the founder of Ramoji film city. Almost all the south Indian films and almost 70 to 80% of the Hindi films and TV serials are shooted Ramoji film city.

Ramoji Film City is a famous travel destination also. One of my office colleagues told me about Ramoji Film city and suggested me to visit the film city at least once.

I planned to visit Ramoji during the summer vacations of 2014. I searched ‘Ramoji film city’ on internet. There were many packages available for the tourists. I was surprised to see the cost of entry tickets of Ramoji Film city as these were Rs 800/- per person for the adults and Rs 700/- per child for the children.  I thought it was too costly for a place like any park or zoo. I dialled my colleague at once and told him about the high prices. He told me that it was worth Rs 800.

It was 8th June 2014. I was in Hyderabad. I was staying in Govt. Guest house at Kothi, near women’s college. I hired an Auto to and fro Ramoji Film City as it was around 45 kms from my guest house. At 9.30 AM, I was at the ticket counter for purchasing 4 tickets (3 adult and one child) for my family.

I noticed that apart from the normal tickets of Rs 800/-, there was one VIP package with Rs 2000/- per adult and Rs 1800/- per child. This package included travel inside the film city in AC bus, snacks on arrival, a lavish veg/non-veg lunch in a five star rated and coupons worth Rs 300/- with each ticket which could be utilised for any purchasing inside the film city.

8th June is marriage anniversary, so I purchased Rs 2000/- package in order to celebrate it in Ramoji Film City. As soon as, I purchased the VIP package, the well dressed volunteers took each one of us to a big AC hall.  A snacks packet was served to us along with a bottle of mineral water. The packet contained fruit juice, sandwich, chips, candies and chocolates. Then we were taken to the AC bus.

Fun Places

The bus took us inside the film city. Our tour guide described the schedule for the whole day. We were told that we had to get down at some designated points and participate in the activities and had to get back to the bus after a fixed time period. Cost of riding in the swings, the giant wheels, riding horses and other game shows was included in the price of ticket.

Our guide showed us the spots where scenes of some famous movies were filmed. We enjoyed moving in the Borosura the giant open mouth. The large  stone legs attracted all of us.

My son took the ‘gada’ of Bajrangbali ji and we had nice snaps.

We enjoyed the giant wheels, the horse riding swings, the car driving games. Then we were taken to show the places where the films were shooted on a highway. Our guide Mr. Ravi explained how that road was converted into a national highway by detaching the lamps and again how the same roads were given the shape of busy lanes of a city like Chennai or Hyderabad.

Food

The package we had was inclusive of lunch in a five star category restaurant inside the Ramoji film city. Around 1.30 PM, we had a call from our guide that we had to proceed towards the restaurant ‘The Super Star’ for lunch. One could see the painting of the famous film stars of south on the walls of this restaurant.

dscn0977

The lunch was really of five star level. There were around 20 kinds of slads. Varieties of south Indian and north Indian delicacies were ready on the buffet.  And above all was the famous ‘Hyderabadi Biryani’ in their non-veg section.  I didn’t miss this chance and had biryani as largest portion of my lunch. As all of us were hungry, we enjoyed the lunch with sweet dishes and Ice-cream.

We had coupons for the evening tea/coffee with snacks which were arranged at another restaurant named ‘Dil se’.

Stunt Show

An act ‘stunt show’ was played by the artists. Its theme was based on some Hollywood movie wherein the villain kidnaps the heroin. Another story of bank robbery was inserted in this show. There were nice live stunts in that show with light and sound effects. It appeared as if we were inside a theatre and watching some action movie. Firing and gymnastics were awesome.  It was a different type of entertainment which one cannot watch elsewhere.

Cultural Dances

We had so many items to attend and each one was more astonishing than the previous one. We were taken to another big hall where a live stage performance of classical dance was waiting for us. A group of female and male dancers performed all the forms of Indian classical dances. We all were on the seventh heaven.

How to make films

The most interesting part was yet to come forth. The tour guide told us that in the next section we will learn ‘how films are shooted and how the sound effects were put into these scenes’. We were taken to another big hall where many articles related with film shootings were kept. The officials explained us about the film making. After the theory portion, they called two persons from us randomly  i.e one male and one female. They took them inside their make-up room and we were asked to move to another big room which was inter-connected with that room. As soon as we reached inside the adjoining room, the two persons selected amongst us were ready. The girl was dressed up with ‘Ghaghra and Choli’. The production team told us that they would shoot “SHOLEY” with them. The girl was asked to get into a tanga i.e horse cart. The tanga kept there had without horse without wheels. It was kept on two sand bags on both sides. The girl was told to hold the ropes, ‘lagaam’ in one hand and waive a stick on another hand and screaming a few words acting as if she was shouting over the horse the horse was increasing its speed.  The boy who thought that he was casted for the role of a hero was disappointed when he was given the job of pulling the tanga up and down on the sand bags.

This scene was completed within 5 to 10 minutes. We were asked to enter the adjoining hall where a few articles like a charkha, a tin sheet and a wind pipe and small pebbles were kept ready. Two or three kids were again called up amongst us and they were asked to spin the charkha, blow the wing pipe, drop the pebbles in front of the wind and shake the tin sheet which produced a sound.  We then, were taken to the another adjoining room where the production team was ready with a complete scene of ‘Basanti’ of ‘Sholey’. The basanti girl was actually looking as if she was riding the tanga. Then came a scene where it was about to rain. Winds were blowing and clouds were thundering. We all realised that these sounds were created a by the kids a minute ago. Some goons were artificially added in the scene who were trying to search for Basanti and take her to gabbar.

We thoroughly enjoyed this act.

Live Shooting

We were lucky to witness live shooting of some  song or album.

TV Serial sets 

We were surprised to see the huge sets of hindu mythological serials. The sets of ‘darbar’ of ancient kings of Ramayana or Mahabharta age.

 World Tour

Then we were made to sit in a toy train. This toy train took us inside a tunnel where famous cities of the world were designed on both the sides. We felt that we were in London, Paris, Moscow, Washington and many more famous cities of the world. We were given the effect as if we were passing by the Niagara falls. Every minutes we were in a new city.

Others

Besides, these main attractions, we were made to watch the filmy jail, filmi railway station with train compartments, filmy airport with airbus and helicopters. Temples, mosque and so many other places.

We saw beautiful birds.

We were taken inside a show where seats were moving up and down with the sound effect. The show was giving the threatening effect of an earthquake.

In an another building we were taken inside a ‘bhoot bangla’ i.e dwelling of ghosts, where we were warned to be firm and not be afraid. There were frightening and heart rendering ‘bhoots (Ghosts)’ coming before us at once and trying to frighten. Most of the females were heard screaming.

We were requested to participate a rain dance also. We didn’t get in but enjoyed seeing people dancing.

A big bollywood award show type live show was going on and famous artists were performing on bollywood numbers.

dscn1025

It was 7 ‘O’ clock in the evening. We could not realise how the whole day passed.

Now it was time to return back. The buses were ready for return journey to the main gate. It took us half an hour to return the main gate where our driver was waiting for us.

We then returned to our guest house.

It was a memorable trip………….. we always watch the photos and videos of Ramoji …………..

 

That’s all friends…..

Please leave your comments ………….

 

Thanks

 

Arjun Kishor    

जानकी काकी ( 34 करवाचौथ तक चाँद का इंतज़ार )

( एक सच्ची घटना का चित्रण…. पात्रों के नाम वास्तविक हैं। )

मित्रो,

पति की दीर्घायु की कामना करती हुई अनगिनत भारतीय महिलाओं को हँसी खुशी ‘करवाचौथ’ पर्व मनाते हुए देखकर मुझे बरबस ही ‘जानकी काकी’ याद आ जाती हैं।

अपने पति का 34 वर्षों तक इंतज़ार करते-करते और उसे तलाशते हुए अपने प्राण त्याग दिये ‘जानकी काकी’ ने

उत्तर प्रदेश के नैनीताल जिले ( वर्तमान उत्तराखंड का चम्पावत जिला) के एक छोटे से गाँव में जानकी रहती थी। एक दुबली-पतली, सीधी-साधी सी महिला…..4  वह हमारे पड़ोस के एक टूटे-फूटे से झोपड़ीनुमा घर में रहती, लेकिन सुबह शाम हमारे घर आ जाया करती थी। मेरे माता-पिता ने हमें उन्हें ‘काकी’ संबोधित करने को कहा था। काकी शब्द का अर्थ, ‘चाची’ समझा जा सकता है। जीवन यापन के लिए वह हमारे और अन्य लोगों के खेतों में काम करती थी । उनकी एक बेटी थी, परंतु उनके पति को कभी हमने नहीं देखा था……जब थोड़े बड़े हुए, तो जिज्ञासावश पूछा, ‘जानकी काकी तो रोज आती हैं, पर काका कहाँ हैं?’……

इस प्रश्न का कोई एक सीधा-सपाट उत्तर कभी नहीं मिल पाया… कई टुकड़ों में, कई लोगों से, कई वर्षों के अंतराल में टुकड़ों में जो जानकारी मिल पायी, उन सबको एक सूत्र में पिरोकर जो परिदृश्य तैयार हुआ, वो अत्यन्त मार्मिक और एक लड़की के कभी न खत्म होने वाले इंतज़ार का चित्रण है।

हिम्मतराम वर्ष 1964-65 के आसपास कुमाऊँ क्षेत्र के पहाड़ी क्षेत्र पिथोरागढ़ के किसी गाँव से आकर नैनीताल जिले के एक मैदानी कस्बे बनबसा में बस गए। उनके पास थोड़ी बहुत जमीन थी जो कि उनके जीवन-यापन के लिए काफी नहीं थी। उन्हें अक्सर मजदूरी करते या कोई छोटा-मोटा धंधा करते देखा गया था।

हिम्मतराम के तीन बच्चों में मझली संतान थी जानकी…. हिम्मतराम के दो पुत्र गंगाराम और नंदराम थे।  कहा जाता है कि उन दिनों पास में ही बहने वाली जगबूड़ा नदी पर सरकार द्वारा पुल बनाया जा रहा था। हिम्मतराम का परिवार भी पुल निर्माण में मजदूरी करने जाता था। हिम्मतराम की पत्नी और उनकी 15-16 साल की बेटी जानकी की हाजिरी और देहाड़ी का हिसाब-किताब, बाबूराम नाम का एक सुपरवाइजर अथवा मुनीम रखता था। बाबूराम 24-25 साल का युवक था। पूर्वी उत्तरप्रदेश के गोरखपुर या उसके आस-पास के क्षेत्र का रहने वाला बताया जाता था। बहुत ही सीधा-साधा युवक था वह……….

एक दिन हिम्मतराम की पत्नी के मन में एक ख्याल आया, ‘क्यों न बाबूराम से जानकी के विवाह की बात चलाई जाए’। कई दिनों तक, कई चक्र की बातचीत के बाद, यह तय हुआ कि जानकी की शादी बाबूराम से कर दी जाए।

यहाँ यह बताना बहुत जरूरी हो जाता है, कि पहाड़ के रहने वाले लोग जो स्वयम के लिए ‘पहाड़ी’ और अन्य सभी क्षेत्रों के रहने वाले लोगों के लिए ‘देशी’ शब्द का प्रयोग करते हैं, किसी ‘देशी’ लड़के से अपनी लड़की का विवाह करना बहुत मजबूरी का विषय समझते थे, तथा उन दिनों इस तरह के विवाह को कमतर आँका जाता था।

अंततः एक दिन हिम्मतराम के परिवार के लोगों ने जानकी की शादी बाबूराम से कर दी। कुछ पुराने लोगों का कहना था कि बाबूराम के माता-पिता या कोई रिश्तेदार इस शादी में शरीक नहीं हुआ। जानकी और बाबूराम हिम्मत राम के ही घर में रहते थे। शादी के बाद बाबूराम ने जानकी का बाहर काम करने जाना बंद करवा दिया। बाबूराम पुल में अपनी सुपरवाइजर की नौकरी करता और अपनी नवविवाहिता के साथ रहता।

कुछ ही महीनों के बाद हिम्मतराम के परिवार के लोगों को बाबूराम का ‘देशी’ होना अखरने लगा और बाबूराम के साथ उनका व्यवहार बदलने लगा। एक तरफ अकेला बाबूराम था और दूसरी तरफ हिम्मत राम का पूरा परिवार । बाबूराम जानकी को साथ लेकर कहीं और रहना चाहता था, परन्तु हिम्मत राम व उनकी पत्नी ने अपनी बेटी को उसके साथ भेजने से इंकार कर दिया। बाबूराम ने उन लोगों से मिन्नतें की कि उसकी ब्याहता पत्नी को उसके साथ भेज दें, परन्तु उन लोगों ने उसकी एक न सुनी। जानकी हतप्रभ थी, उसे सही गलत का अंदाज़ा लगाना मुश्किल हो रहा था। अब वे लोग बाबूराम के वहाँ आने और जानकी से मिलने जुलने पर भी प्रतिबंध लगाने लगे थे।

समय बीतता गया और एक वर्ष के पश्चात सन 1966 में जानकी ने एक बेटी को जन्म दिया।

कहा जाता है, कि बेटी के पैदा होने की खबर सुनकर बाबूराम अपनी पत्नी और बेटी से मिलने आया, पर उन लोगों ने उसे अपनी बेटी को देखने तक नहीं दिया।

बाबूराम जानकी और अपनी बेटी का खर्चा अब भी उठा रहा था। कहा जाता है कि गाहे-बगाहे हिम्मत राम का परिवार उससे छोटी-मोटी आवश्यकताओं का हवाला देकर पैसे माँगा करते थे।

बेटी बड़ी होने लगी, बाबूराम जब भी अपनी बेटी से मिलने आता, दुत्कार कर भागा दिया जाता। हिम्मत राम और उनकी पत्नी उसे बहुत बुरा-भला कहते। बाबूराम कहता, ‘मुझे मेरी बीवी और बेटी दे दो, मैं फिर कभी आप लोगों के यहाँ नहीं आऊँगा। बाबूराम की प्रार्थना का उन लोगों पर कोई असर नहीं पड़ा। कहा जाता है, कि हिम्मत राम का बड़ा बेटा गंगा राम बाबूराम के साथ जानकी और उसकी बेटी को भेजे जाने का पक्षधर था, परंतु उसकी कोई सुनता नहीं था।

इसी तरह करीब एक डेढ़ वर्ष और बीत गया, और पुल बनकर तैयार हो गया। अब बाबूराम को किसी दूसरी साइट पर भेजा जाना तय था। बाबूराम ने गाँव के कुछ बड़े-बुजुर्ग लोगों से कहा, “आप सब लोग मिलकर मुझे मेरी पत्नी और बेटी दिलवा दीजिये।“

सब लोग बाबूराम के पक्ष में थे, गाँव के सब लोगों ने हिम्मत राम और उनकी पत्नी को समझाया, “शादी-शुदा बेटी का अपने पति के साथ रहना ही ठीक होता है, कब तक इसे अपने साथ रखोगे”  परंतु हिम्मत राम और उनकी पत्नी ने किसी की एक न सुनी।

फिर एक दिन बाबूराम उस गली से रोते-रोते जाते हुए देखा गया……………….. कहते हैं उस दिन के बाद वो लौट कर नहीं आया।

धीरे-धीरे कुछ और वर्ष बीते। हिम्मत राम ने अपनी जमीन के तीन हिस्से किए। और जानकी को उसके हिस्से की जमीन मिल गयी।  जानकी की बेटी स्कूल जाने लगी।

janki

इन्हीं वर्षो में हिम्मत राम के दोनों पुत्रों गंगा राम और नन्द राम का विवाह हो चुका था। घर में दो बहुएँ आई। बहुओं को शादी-शुदा जानकी का इस तरह उनके घर पर रहना ठीक नहीं लगता था।

इधर हिम्मत राम और उनकी पत्नी बूढ़े हो चुके थे, उधर आए दिन जानकी और उसकी बेटी को लेकर घर में झगड़े हो रहे थे।

अब जानकी को अपनी गलती का अहसास होना शुरू हुआ। बेटी भी अपने बाप के बारे में पूछने लगी। जानकी अड़ोस-पड़ोस वालों से बाबूराम के बारे में पूछ ताछ करती। किसी को नहीं मालूम था बाबूराम कहाँ था।

कुछ वर्ष बाद हिम्मत राम की मृत्यु हो गयी। और उसके कुछ वर्षों के बाद हिम्मत राम की पत्नी भी चल बसी। जानकी की राह अब कठिन हो चली थी।

जैसे-जैसे समय बीतता गया, जानकी ‘बाबूराम-बाबूराम’ की रट लगाने लगी। कभी देवी-देवता की पूजा पाठ कर ‘बाबूराम’ के मिल जाने की मन्नत मांगती, कभी किसी तांत्रिक के पास जाकर बाबूराम का पता पूछती।

जानकी के जीवन का मानो अब एक ही उद्देश्य रह गया था…… वह दूसरों के खेतों मे मजदूरी कर कुछ पैसे इकट्ठा करती और फिर ‘देवतारी’ (किसी ऐसे व्यक्ति को बुलाना जिसके ऊपर देवता आता हो) करवाती थी। देवतारी में बताया जाता कि बाबूराम फलाँ दिशा में, फलाँ शहर में है……….. जानकी अगले ही दिन कुछ लोगों को आने-जाने के पैसे देकर उस शहर में भेजती और बाबूराम को अपने साथ लेकर आने के लिए कहती ।

इस तरह कई वर्षों तक यही सिलसिला चलता रहा……….. जैसे ही जानकी के पास मजदूरी के कुछ पैसे इकट्ठा होते, वह लोगों को बाबूराम तलाश में भेज देती।

एक बार किसी ने एक तांत्रिक के बारे में बताया। जानकी उस तांत्रिक के पास गयी… उस तांत्रिक ने उससे काफी पैसे ऐंठ लिए और कहा कि वह ऐसा तंत्र-मंत्र करेगा कि बाबूराम अपने-आप अपनी बीवी और बेटी को ढूँढता हुआ चला आएगा।

जानकी इंतज़ार करती रही…. लगातार….. वर्षों तक………………..

तब तक हम लोग बड़े हो चुके थे, और जानकी काकी की व्यथा हमारे समझ में आने लगी थी।

वह बेचारी रोजाना हमारे घर आ जाती… और हम बच्चों से भी पूछने लगती, ‘बाबूराम को यहाँ का रास्ता याद तो होगा ही न’

janki2

जानकी काकी की बेटी विवाह योग्य हो चुकी थी। बहुत ही सुशील और सुंदर थी वह………… गाँव के ही एक सभ्य व्यक्ति ने उससे विवाह कर लिया।

बेटी का ससुराल पास ही था…. जानकी ने अपने हिस्से की जमीन में से कुछ जमीन अपनी बेटी को दे दी। जानकी कभी हमारे घर खाना खाती तो कभी अपनी बेटी की ससुराल में………….

बेटी की शादी के बाद जानकी का अकेलापन और बढ़ गया । बाबूराम की यादें और गहरी होती गयी…………

मैं अपनी पढ़ाई लिखाई के लिए घर से दूर निकाल आया था। परन्तु जानकी काकी का दर्द मुझे वहाँ भी सोचने पर मजबूर करता था, कि जानकी काकी से कहाँ पर चूक हुई…………….

जानकी काकी की बेटी के बच्चे हो गए। वाह अपनी गृहस्थी में रम गयी।

जानकी काकी मेरी माँ को दीदी कहकर पुकारती थी। माँ भी उसे अपनी छोटी बहन की तरह ही मानती थी।

जानकी काकी बूढ़ी हो चली थी, और ‘बाबूराम का इंतज़ार’ पहले से और जवां ,……….. अब वह अक्सर बीमार रहने लगी थी।

कई वर्ष बाद, मैं छुट्टियों में गाँव गया था । माँ ने बताया, ‘बेटा, जानकी बहुत बीमार है । एक बार उसे देख आना।‘

मैं माँ के साथ, एक लोटे में गाय का दूध लेकर जानकी काकी को देखने गया…. वह बहुत बीमार थी, बिस्तर पर आंखे मूँदे लेटी थी, गाँव के लोग चारों ओर खड़े थे……

मुझे देखकर कुछ लोगों ने पूछा, ‘तुम कब आए ?’

लोगों के मुँह से ऐसा सुनकर जानकी काकी ने आँखें खोली और पूछा, ‘बाबूराम आ गया क्या ?’

मेरी आंखों में आँसू आ गए, गला भर आया…….. मैंने रुँधे हुए गले से कहा, ‘काकी मैं हूँ, ………….थोड़ा दूध पी लो’

मैंने उनके मुँह में दूध डाला, पर जानकी काकी दूध भी नहीं निगल पा रही थी।  ………….

अगली सुबह खबर मिली कि जानकी काकी नहीं रहीं…………………..

अपने पति का 34 करवाचौथ तक इंतज़ार कर भी जानकी काकी को चाँद नही दिखाई दिया……..

जल्दी ही एक नए वृतांत के साथ आपके समक्ष आऊँगा………..कृपया जानकी काकी की इस कहानी पर अपने कमेंट जरूर लिखें ।

आपका

अर्जुन किशोर

Lakshadweep…… a bunch of islands

Hi, Friends

When we think of visiting a south indian state i.e Kerala, Tamilnadu etc. a picture of  sea comes in front of our eyes. I had already visited Kerala two times and had a shikara ride of about 3 hours  in the Indian Ocean through backwaters of Alleppy.

So this time I decided to visit Lakshadweep to have more fun in the ocean and to learn the culture of people residing on Islands.

I approached the  ‘SPORTS’ (Society for Promotion of Tourism and sports) an organisation under Lakshadweep administration. I chose the ‘Samudram Package’, a 4N/5D package by India’s largest cruise ship,’M V Kavratti’.

Lakshadweep is situated in Arabian Sea. It is around 400 kms from cochin. Though, it is a part of Indian Territory, one has to obtain special permission from the lakshdweep administration. Our passess were arranged by the SPORTS.

The Ship

M.V. Kavratti is a huge ship. It is around 275 meters long and a 6 storied apartment type moving giant having the capacity of around 1200 passengers. There are 75 rooms of diamond class ( Ist class). There are gold class (IInd class) and bunk classes (IIIrd class)  also.

DSCN1709.JPG

Actually Lakshadweep is not the name of a single place. It is a bunch of 36 islands of which only 20 or 21 are manned i.e people reside on these islands.

Kavratti is the capital of Lakshadweep. The package I purchased included Kalpeni, Minicoy and Kadmat islands. We started from Cochin (Willingdon Island). There were so many groups. All of us were provided a T-shirt, a cap and a I D card bearing the monograms of SPORTS. The diamond class rooms have two beds like thatof the births of a 2nd AC class train.

IMG_20150102_120018.jpg

Food in the ship

The package included all the meals. There was a big kitchen and a cafeteria to accommodate  150 pax at a time.  There were two separate halls for vegetarian and non-vegetarians. Morning 6.30 to 7.00 was tea time. If you are a late riser,then you will not get the tea/coffee after 7 AM. Breakfast and dinner were served in the ship and lunch was arranged in one of the islands as per schedule.

dscn1595
The breakfast
dscn1598
My son enjoying his trip
dscn1603
Me n my wife

The Islands (Kalpeni, Minicoy, Kadmat)

Kalpeni

On first day we boarded the ship at 11 AM. A sumptuous lunch was ready on-board. The ship started at 6 PM. We had snacks with tea at 5PM followed by a mouth watering dinner. The ship sailed the whole night. Next morning we were at Kalpeni island. We were re-embarked and taken to the island in small ferry boats in a group of 40-50 persons. Kalpeni island is  a beautiful place. It was covered by the coconut trees are around. Fresh ‘Nariyal paani’ was served as welcome drink.

Water sports like snorkeling, kayaking and scuba diving were arranged at Kalpeni. These sports were free of cost as their cost was included in the package cost.

After the water sports, we had a shower with fresh water (as the sea water is salty and one has to take a bath after coming out of the sea). There was lunch of that island and after that the residents of Kalpeni performed their cultural folk 2015-01-05-14-35-29songs and dance.

After enjoying folk dance, we were taken on the road trip of Kalpeni village. We watched their livelihood of the islanders and their food too. There is no industry on the islands. Population of Kalpeni  was  around 3000. Half of the population was employed on different ships and the remaining half was indulged in catching fish and handling coconut.

In the evening, we were taken back to the ship by ferry boats.  Though badly tired during the whole day, each one of us was on the deck of the ship in the evening, for capturing the rarest sunset view.

We had dinner at 9 PM.The ship sailed for the night and the next morning when we woke up, we were at an another island.

Minicoy

Minicoy  is the most beautiful island of lakshadweep. It is 2nd largest in area with around 10000 population. It is the farthest point of indian territory. Maldives is around 25 knots from Minicoy which is in international waters.  Light house having 280 stairs is the main attraction of Minicoy. At minicoy, the water looks both white and blue. We enjoyed snorkeling and kayaking here. Scuba diving was on payment here. Lunch at Minicoy was quite delicious and full of variety. Folk dance and song was a touching experience.

I also sang two of my favourite ‘kishor kumar’songs.

Around, 5 PM we were taken by small cars to the boat jetty, where the ferry boats were ready to take us to the ship.

When we reached the ship, our rooms were cleaned by the staff of the ship. Fresh fruits and two bottles of mineral water in each room is a tradition.There were people from different parts of India and even from abroad also. Each one was anxious to know about the other. We made friends. We ate, we sang, we danced and enjoyed ourselves.

Kadmat

Our next morning target was a new island; Kadmat. A natural sea shore. We enjoyed the sea plants and sea animals through a ‘glass bottomed boat’. Kayaking, snorkeling and Scuba diving were available here also.

The foods here was much delicious. Specially, the fish here was of a nice quality and taste.

After a day-long excursion, we came back to the ship.

It was a full moon night & it was an amazing experience being on the deck of a ship amidst the arabian sea on a full moon night. We captured the sight of the moon.

On 4th night, we all were friends. As it was our last night on the ship, we all were quite unhappy .

It was an overwhelming experience being on a ship for five days.

One thing that I would like to conclude with is that the people of the islands were very much hospitable. Our every query was attended and attempted to fulfill.

With a heavy heart, we left the sea, the Ship and our never ending friendships.

Had a nice Journey…………..

Looking for more………….. Bye… friends

ARJUN KISHOR

केरल…एक अविस्मरणीय यात्रा (प्रथम अंक से आगे)

दोस्तो,

पिछले अंक में मैंने एलेप्पी और टेकड़ी में बिताए खूबसूरत लम्हों का वर्णन किया था।

टेकड़ी (Thekkeddy)

टेकड़ी में दो दिन रुकने के बाद मैं ‘मुन्नार’ गया। मुन्नार केरल का सबसे खूबसूरत हिल-स्टेशन है । मुन्नार चारों ओर से खूबसूरत चाय के बागानों से घिरा हुआ है। टेकड़ी से मुन्नार की दूरी लगभग 90 किमी है। मुन्नार के रास्ते में हमारी कार खूबसूरत चाय के बागानों के बीच से गुजरती हुई जाती है। रास्ते में कहीं पर भी आपको छोटी इलायची के पौधे  देखने को मिल जायेंगे। लगभग सभी मसालों की खेती यहाँ देखी जा सकती हैं।

मुन्नार 

मुन्नार में रात में अच्छी-ख़ासी ठंड थी। हम लोग 25 दिसम्बर की शाम 7 बजे मुन्नार पहुँचे थे। उस दिन मुन्नार के सभी होटल फुल थे। हम लोगों ने कई होटलों में पूछा…..बल्कि रिक्वेस्ट की ……….

रात के लगभग सवा आठ बज रहे थे, ठंड बढ़ती जा रही थी और हम लोग सड़क पर ही थे। …. हमारी ही तरह के कई परिवार कमरे न मिलने के कारण इधर -उधर कदम-ताल कर रहे थे।

उसी समय मैंने भी बीच में घुसकर अपनी प्राथमिकताएँ बताई। अचानक मुझे ख्याल आया कि मुझे अपने सरकारी नौकरी मेन होने के बारे मे बताना चाहिये, शायद कुछ काम बन जाए … मैंने होटल के बुजुर्ग से दिख रहे मैनेजर को धीरे से बताया, ‘सर, मैं सेंट्रल गवर्नमेंट सरवेंट हूँ, मेरे बच्चे क्या की आज रात सड़क पर काटेंगे ?’     मेरी तरकीब काम कर गयी…… जो कमरा अभी-अभी खाली हुआ था, वो मुझे दे दिया गया…………..

अगले दो दिन हम लोग मुन्नार की खूबसूरत वादियों मेन घूमते फिरते रहे………… मट्टूपट्टी डैम, राजा माला जंगल, फूलों की घाटी …. एक से बढ़कर एक …………….. मन नहीं कर रहा था, मुन्नार से वापस जाने का …..

त्रिवेन्द्रम ( तिरुवनन्तपुरम)

मुन्नार के बाद हम लोग ‘त्रिवेन्द्रम’ गए। त्रिवेन्द्रम केरल की राजधानी है, हम लोग होटल हाइलैंड मे रुके। त्रिवेन्द्रम में कई खूबसूरत जगह हैं घूमने के लिए…. धार्मिक लोगों के लिए ‘स्वामी पद्मनाभ मंदिर’ एक बहुत ही बेहतरीन मंदिर है।

picture-075

इस मंदिर में पुरुषों को केवल धोती पहनकर प्रवेश दिया जाता है। वैसे तो मंदिर में ही किराए पर धोती मिल जाती है, पर मैंने एक मर्दाना धोती खरीद ली थी, जिसे मैं अब भी गाहे-बगाहे पहन लिया करता हूँ।

त्रिवेन्द्रम का चिड़ियाघर देखने लायक है। यूँ तो सभी चिड़ियाघरों मे आपको जानवर देखने को मिल जाएंगे, परंतु त्रिवेन्द्रम चिड़ियाघर में रखे जानवरों की बहुत ही शानदार देखभाल की जाती है, प्रत्येक जानवर स्वस्थ था, कुछ-न-कुछ खा-पी रहा था…. देखकर सुकून मिला….

 

त्रिवेन्द्रम से करीब 15 किमी दूर ‘कोवलम’ नामक एक बेहद खूबसूरत बीच है। एक समय ‘कोवलम बीच’ विश्व के सबसे खूबसूरत 20 बीचों मे से एक था। हम लोगों ने एक पूरा दिन कोवलम बीच का आनंद लिया।

कन्याकुमारी 

कन्याकुमारी भारत का दूरस्थ दक्षिणी स्थान है। यहाँ पर तीन समुद्र ( बंगाल की खाड़ी, अरब सागर, हिन्द महासागर) मिलते हैं। तीनों समुद्र एक साथ किन्तु अलग-अलग देखने का अलग ही आनंद है।  कन्याकुमारी मुख्य रूप से स्वामी विवेकानन्द के ध्यान केन्द्र के रूप मे जाना जाता है। कई किलोमीटर लम्बी लाइन मे लगकर ‘विवेकानंद रॉक मेमोरियल’ देखने जाने का टिकट हासिल किया। विवेकानंद रॉक मेमोरियल समुद्र के बीच में एक बड़े से पत्थर पर बना है। यहीं पर स्वामी विवेकानंद ने ध्यानमग्न होकर तपस्या की थी। वहाँ पर एक अदभुत सी शान्ति मिलती है।

कुछ वर्ष पहले विवेकानंद रॉक मेमोरियल के ही बगल मे काले पत्थर से बनी भगवान तिरुवल्लूवर की विशालकाय प्रतिमा समुद्र के बीचों-बीच स्थापित की गयी है। यह करीब 250 फीट ऊँची प्रतिमा है, जिसका सौंदर्य देखते ही बनता है।

 

कन्याकुमारी से बहुत से मसाले खरीदकर हम लोग त्रिवेन्द्रम वापस आए। कन्याकुमारी मेँ सूर्योदय (sunrise) और सूर्यास्त (sunset) देखना अत्यंत आनन्ददायक अनुभव है।

इस प्रकार लगभग एक सप्ताह केरल में बिताने केबाद हम लोग वापस लौटे….. बहुत सी मीठी यादें लेकर……

धन्यवाद

आपका

अर्जुन किशोर

केरल….. एक अविस्मरणीय यात्रा

दोस्तों,

पहले मैं घूमने-फिरने को एक व्यर्थ धन और समय की बरबादी मानता था। मेरा ऐसा मानना था कि किसी स्थान के बारे में जानने के लिए उस स्थान का नाम गूगल पर डालिए और क्लिक कीजिये…. बस फोटो और विडियो के साथ उस शहर की सारी जानकारियाँ उपलब्ध हो जाएँगी।  फिर मैंने सोचा, कुछ तो आनंद मिलता होगा …. यूँ ही तो कोई पैसा खर्च करके परेशान थोड़े ही होता होगा।

दिसम्बर 2010 में मैंने अपने परिवार के साथ केरल जाने का निर्णय किया। 4 सदस्यों का मेरा परिवार, जिसमे मेरे अलावा मेरी पत्नी, मेरी पुत्री और 7 वर्षीय पुत्र हैं,

हम लोग लखनऊ से देर रात की एक ट्रेन लेकर अगली सुबह झाँसी आ गए। झाँसी से ही शाम 4 बजे केरल के लिए ट्रेन पकडनी थी।  झाँसी में हमारे पास करीब 5 घण्टे का समय था, लिहाज़ा हमने झाँसी भ्रमण का विचार बना लिया (हालांकि, झाँसी में घूमने वाला प्लान पहले से निर्धारित नहीं था) ।

झाँसी 

झाँसी एक ऐतिहासिक शहर है। यह रानी लक्ष्मीबाई की वीरता का बखान करता प्रतीत होता है। प्रसिद्ध ‘झाँसी का किला’ पत्थरों से बना एक शानदार किला है। यहाँ पर जगह-जगह रानी लक्ष्मीबाई की वीरता को मूर्तियों और चित्रों के माध्यम से दर्शाया गया है।  सबसे कौतूहल वाला वह बिन्दु है, जहाँ से रानी लक्ष्मीबाई ने अंग्रेज़ों से लड़ते-लड़ते अपने दत्तक पुत्र को पीठ पर बांधकर घोड़े समेत किले से छलांग लगाई थी।

 

ओरछा

झाँसी से करीब 18-20 किमी दूर ओरछा का किला और मंदिर है। यह मध्य-प्रदेश में लगता है। देखने की जिज्ञासा हुई, तो एक ऑटो पकड़कर ओरछा पहुँच गए… यहाँ पर एक भव्य मंदिर है तथा कई प्रकार की प्रचलित कथाएँ हैं।  हमने करीब 2 घंटे ओरछा में बिताए।

एलेप्पी

ट्रेन से केरल के एर्णाकुलम स्टेशन पर उतरे।  दोस्तों, एर्णाकुलम नामक रेलवे स्टेशन जिस शहर में है, उसका नाम कोच्चि है। इसी शहर का नाम कोचीन भी है। ……. (देखिये हो गया न रोमांच शुरू)…

हमने एर्णाकुलम से रेल द्वारा एलेप्पी गए। एलेप्पी विश्व भर में अपने खूबसूरत बैकवाटर्स के लिए जाना जाता है।  यहाँ रुकने के लिए होटल और लॉज के अलावा ‘होम स्टे’ भी मिलते हैं।   होम स्टे एक सामान्य भारतीय परिवार का घर ही होता है, जिसमें लोग अपनी आवश्यकता के अलावा बचने वाले कमरों को पर्यटकों को किराए पर दे देते हैं। होम स्टे मे रुकने का सबसे बड़ा फायदा यह मिलता है कि आपको केरल के लोगों का अतिथि का सत्कार करने का तरीका, उनकी परम्परा, उनका खान-पान, उनका रहन-सहन सब पता चलता है।

मैं जिस होम स्टे में रुका था, सौभाग्य से वो बहुत ही सीधे-साधे दंपति का था। उन्होने अपने परिवार के सदस्यों की ही मानिंद हम लोगों का स्वागत किया। किराए की रकम में नाश्ता शामिल था, पर वो लोग इतने सज्जन थे कि उन्होने हमें, खाना वगैरह भी खिलाया।  फिर उन्होने अपने किसी जानने वाले बोट वाले को फोन करके उसे मलयालम में सख्त हिदायत के साथ समझा दिया कि ‘हम’ लोग उनके बहुत खास हैं और कोई दिक्कत न होने पाए…. हम लोग शिकारा मे करीब 3 घंटे समुद्र की सैर करते रहे। एलेप्पी का ‘बीच’ भी बहुत खूबसूरत है।

टेकड़ी (Thekkeddy)

एलेप्पी के बाद हम लोग टेकड़ी गए । टेकड़ी यहाँ से करीब 140 किमी दूर एक  शांत और खूबसूरत पहाड़ी शहर है।  हमने एक कार किराए पर ले ली थी। एलेप्पी से टेकड़ी जाने के सफर के दौरान आपको रास्ते में खूबसूरत झरने दिखाई देंगे जहाँ पर फोटोग्राफी किए बिना आप खुद को रोक नहीं पायेंगे। टेकड़ी अपने प्राकृतिक सौन्दर्य और मसालों की खेती के लिए जाना जाता है। यहाँ एक बहुत बड़ी और प्रसिद्ध पेरियार झील भी है। इस  झील में मोटर बोट से घूमने के लिए टिकट लेना किसी जंग को जीतने से कम नहीं है।  एक शानदार शहर………… ….

टेकड़ी में रातें सर्द हो जाती हैं। शाम को होटल से निकलकर हमने शाकाहारी भोजनालय की तलाश की। मुझे बड़ी हैरानी हुई कि यहाँ एक बहुत बड़ा वैष्णव भोजनालय था…….

(शेष अगले अंक मेँ )